बेरोजगारी पर शायरी, जोक्स और कविता (फनी स्टेटस) 2020–Unemployment Jokes Shayari and Poem Hindi

बेरोजगारी पर शायरी, जोक्स और कविता (फनी स्टेटस) 2020 – Unemployment Jokes Shayari Hindi-
Shayari, jokes and poetry on unemployment



Shayari, jokes and poetry on unemployment
Shayari, jokes and poetry on unemployment

बेरोजगारी शायरी जोक्स (फनी स्टेटस) – Unemployment Jokes Shayari Hindi – बेरोजगारी से जुड़ी ये हास्य रचनाएँ आपका मनोरंजन करेगी। इन्हे अपने दोस्तों व रिश्तेदारों से शेयर करना ना भूलें...
Best Kavita On Berojgaari-Top Berojgaari Poem in hindi-Top 20 Best Berojgaari Jokes In Hindi



बेरोजगारी शायरी-Unemployment shayari in Hindi

Top 20 Best Berojgaari Jokes In Hindi


कर के हम M Phil. व पीएचडी।
लगा रहे ठेला सब्जीमंडी।।




सरकार एजुकेशन देकर हमें खाली किया पर्स।
फिर मोबाइल थमा हाथ में बोली जॉब करो सर्च।।



करके मैं MA , BA पास।
बन गया बेरोजगारी भत्ते का दास।।




बेरोजगार है , बेरोजगार है।
पढ़ने लिखने का चमत्कार है।




Shayari, jokes and poetry on unemployment
Shayari, jokes and poetry on unemployment




बचपन में बोला पढ़ लिख के अपना टाइम आयेगा।
सरकार ने बोला ज्यादा पढ़े तो आया जो भी जायेगा।।



सोचा था मजदूर बापू ने
बनाऊंगा बेटे को कलेक्टर।
खून पसीना बहाकर
खूब बेटे को पढ़ाकर।
इक दिन बनाऊंगा सरकारी नौकर
और बना दिया जी नौकर
होटल में पैसे कमा रहा गिलास धोकर।




पढ़ना – पढ़ाना यहाँ धंधा है रोजगार है सपना।
सपना को ही देख देख टाइम पास हो रहा अपना।।






पढ़ लिख कर बन गए नवाब।
अब नवाब देखे जॉब का ख्वाब।।

सालों किताब का बोझ का उठाया।
परिणाम में जॉब ढूंढना आया।।





डिग्री देख बादशाह समझे, पाकर बने गुलाम।
Queen पाने के सिर्फ सपने, क्योंकि नहीं मिला कोई काम।।



Shayari, jokes and poetry on unemployment


माँ बाप ने सोचा पढाई लिखाई
बनाएगी बेटे का इक दिन फ्यूचर।
क्या पता इक दिन बन जाएगी
बेटे का फ्यूचर मिटाने वाली डस्टर।।



दबा के दिमाग में किताबों का ज्ञान।
मिल गई बेरोजगार की पहचान।।


एक हैंडसम लड़का क्लास में आया!! और सारी लडकिया देखते ही दीवानी हो गयी! फिर लड़के ने आते ही कुछ कहा तो लडकिया बेहोश!! सोचो क्या कहा होगा ?? “थोड़ी जगह देना, बहिन जी झाड़ू लगाना है” 
हाय रे बेरोज़गारी…




नदी में डूबते हुए आदमी ने पुल पर चलते हुए आदमी को आवाज़ लगायी।

आदमी: "बचाओ-बचाओ।"

पुल पर चलते आदमी ने नीचे देखा और उस आदमी को बचाने के लिए पुल से नीचे रस्सी फैंकी और कहा, "रस्सी को पकड़ के ऊपर आ जाओ।"

परन्तु नदी में डूबता हुआ आदमी रस्सी नहीं पकड़ पा रहा था तो वह डर के मारे चिल्ला कर बोला, "मैं मरना नहीं चाहता, ज़िन्दगी बड़ी कीमती है कल ही तो मेरी टार्जन कंपनी में बड़ी अच्छी नौकरी लगी है।"

इतना सुनते ही पुल पर चलते आदमी ने अपनी रस्सी खींच ली और भागते-भागते टार्जन कंपनी के दफ्तर में गया वहां के मैनेजर से बोला," जिस आदमी को आपने कल नौकरी दी थी वो अभी-अभी डूबकर मर गया है, और इस तरह आपकी कंपनी में एक जगह खाली हो गयी है, मैं बेरोजगार हूँ इसीलिए मुझे रख लीजिये।"

मैनेजर: "दोस्त, तुमने देर कर दी, अब से कुछ देर पहले हमने उस आदमी को रखा है, जो उसे धक्का दे कर तुमसे पहले यहाँ आया है।"



पढ़ने लिखने का अपना
अलग ही मजा है।
जॉब ढूंढते ढूंढते जिंदगी
निकल जाये वह सजा है।



गुरुजनों व किताबों के सहारे लगे जीवन नैया तराने।
कागज़ की यह नैय्या मझदार में लेकर लगी डुबाने।।



Shayari, jokes and poetry on unemployment



बेरोजगारी कविता : Berojgari Kavita 2020 – Hindi Poems on Unemployment


बेरोजगारी कविता
बेरोजगारी वाला रोजगार

बेरोजगार हैं बेरोजगार हैं
यही नारा अब रोजगार है

रोजगार है अब ढूंढना काम
खूब जप रहे प्रभु का नाम

प्रभु के नाम से ही जॉब मिल जाये
यह काले अक्षर कुछ काम तो आये

काम तो आये बस डिग्री दिखाने
थे बाहरी हाथी दांत लगे थे सुहाने

थी सुहानी डिग्रियां अब जीवन का भोज
सरकारें बाँट बाँट के ले रही है देखो मौज

ले रही मौज दे साथ में आश्वासन रोजगार का
यही काम बन बैठा नेतागिरी संग सरकार का

सरकारें चेयर पे बैठ करें युवाओं का चीर हरण
इशारों में समझाये बनो वोट बैंक पाओ शरण

शरण हमारी पाओ और दो शरण बनाके सरकार
घबराओं नहीं जाते जाते निकालेंगे बम्पर रोजगार

बम्पर रोजगार लेकिन होता ऊँट के मुंह में जीरा
लाखों मोतियों में निकले कोई देखो एक ही हीरा

कोई एक ही हीरा मानो सब हुए कंकड़ पत्थर
लोकतंत्र ही हो गया अब लोगों के लिए बदत्तर

बदत्तर ही पूरा ढांचा मत करो सरकारों से आस
कुपोषण है इनको बनाके खा जायेगी च्यवनप्राश





बेरोजगारी कविता | Unemployment Poem in Hindi
Best Kavita On Berojgaari-Top Berojgaari Poem in hindi



‘होके M.A. B.A. पास’

होके M.A. , B.A. पास
रखकर दो दिन का उपवास
एजुकेशन को लगा शॉक
बेरोजगार ढूंढे जॉब
और वोट बैंक के भूखे लोग
लगा रहे डिग्री का भोग
जवानी चबा रहे
उम्र साथ में बड़ा रहे
35  से ऊपर लड़का
लड़की 30 से ऊपर ब्याह रहे
ऐसे हो रहा युवाओं का विकास
होके M.A. , B. A. पास ……





देश की अर्थव्यवस्था
एक बात कहे सच्ची
भिखारियों की हालत
बेरोजगारों से अच्छी
डिग्री नहीं है हाथ में कटोरा
चाहे छोरी हो या छोरा
सबके पास कटोरे जितना ज्ञान
सरकार ने दी नयी पहचान
अब योग्यता को कटोरे से आस
होके  M.A. , B. A. पास …..




नौकरी मिले ना छोकरी
कर रहे डिग्री की चाकरी
छोकरी करे ना शादी
उम्र हो गई उसकी भी आधी
बच्चे कह रहे दादी  
ऐसे शादी रोक रुके आबादी
ऐसा सरकार का विश्वास
कराके M. A. , B. A. पास …

Post a Comment

0 Comments