कीमोथेरेपी उपचार क्या हैं। What are Chemotherapy Treatments in Hindi

कीमोथेरेपी उपचार क्या हैं। What are Chemotherapy Treatments

What are Chemotherapy Treatments in Hindi
What are Chemotherapy Treatments in Hindi

Tags-chemotherapy treatments,chemotherapy,chemo,neoadjuvant,chemotherapy drugs,chemo port,neoadjuvant chemotherapy,chemo brain,adjuvant chemotherapy,chemotherapy cost

Topics-
  • कीमोथेरेपी के प्रकार ? (Types of Chemotherapy in Hindi)
  • कीमोथेरेपी क्यों किया जाता हैं ? (What are the Purpose of Chemotherapy in Hindi)
  • कीमोथेरेपी कैसे किया जाता हैं ? (What are the Procedure of Chemotherapy in Hindi)
  • कीमोथेरेपी के बाद देखभाल ? (How to Care After Chemotherapy in Hindi)
  • कीमोथेरेपी के बाद क्या जटिलताएं आ सकती हैं ? (What are the Risks of Chemotherapy in Hindi)
  • भारत में कीमोथेरेपी करवाने का खर्च कितना लगता हैं ? (What is Cost of Chemotherapy in India in Hindi)


कीमोथेरेपी उपचार क्या हैं ? (Chemotherapy Meaning in Hindi)
कीमोथेरेपी का उपयोग कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है। कीमो का अर्थ है दवाओं का उपयोग और थेरेपी का अर्थ है कैंसर के स्टेज को रोकने पर निर्भर होना। यह थेरेपी कैंसर की कोशिका को बढ़ने से रोकती है। कीमोथेरेपी सभी के लिए फायदेमंद नहीं होता है बल्कि इसके नुकसान भी होते है। जैसा की आपको मालूम है मनुष्य के शरीर में नयी कोशिका बनती रहती है जो पुरानी की जगह लेती है। यदि मनुष्य को कैंसर होने लगता है तो कोशिकाएं नियंत्रणः से बाहर हो जाती है इस वजह से नये कोशिका की जगह कैंसरकारी कोशिका बढ़ने लगती है। इन कोशिकाओं के विकास को रोकने के लिए चिकिस्तक केमोथेरेपी दवा का उपयोग करते है। इन दवाओं को मनुष्य के शरीर में नसों के माध्यम से दी जाती है या कैंसरकारी कोशिका पर प्रभाव डालने के लिए दवा देते है। चलिए आज के लेख में आपको कीमोथेरेपी उपचार के बारे में विस्तार से बताते हैं। 


कीमोथेरेपी के प्रकार ? (Types of Chemotherapy in Hindi)
कीमोथेरेपी के मुख्य चार प्रकार है। 

एंटीट्यूमर एंटीबायोटिक्स (Antitumor Antibiotics) – इस प्रक्रिया का उपयोग कई प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है। जैसे डक्टिनोमाइसिन (कोस्मेजेन) आदि। 
एंटीमेटाबोलाइट्स (Antimetabolites) – इस प्रक्रिया का उपयोग लेकिमिया, स्तन, अंडाशय और आंत्र पथ का कैंसर का इलाज किया जाता है। 
क्षारी करण एजेंट  (Alkylating Agents) –  इस प्रकार में लेकिमिया, लिंफोमा, हॉजकिन रोग, एकाधिक मायलोमा, सारकोमा, दिमाग, फेफड़े, स्तन और अंडाशय के कैंसर आदि का इलाज किया जाता है। 
प्लांट एल्कलाइड्स  (plant alkaloids) – इस प्रक्रिया का उपयोग कोशिका को विभाजित होने की गति को रोका जाता है। इसमें मायटोमैसीन व एक्टिनोमायसिन शामिल है।
कीमोथेरेपी क्यों किया जाता हैं ? (What are the Purpose of Chemotherapy in Hindi)
कीमोथेरेपी उपचार मुख्य रूप से कैंसर कोशिका को बढ़ने और विभाजित होने से रोकने के लिए उपयोग किया जाता है। 
इसके अलावा निम्नलिखित स्थितियों में कीमोथेरेपी की आवश्यकता हो सकती है। 
  • आपके शरीर में कैंसर कोशिकाओं की कुल संख्या कम। 
  • कैंसर फैलने की संभावना कम करें। 
  • ट्यूमर का आकार छोटा होना। 
  • लिम्फ नोड्स की सूजन। 

कैंसर के उपचार के अलावा कीमोथेरेपी का उपयोग –
अस्थि मज्जा स्टेम सेल उपचार के लिए अस्थि मज्जा रोगों वाले लोगों को तैयार करने के लिए किया जा सकता है और इसका उपयोग प्रतिरक्षा प्रणाली विकारों के लिए किया जा सकता है। 
कैंसर का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली खुराक की तुलना में बहुत कम खुराक का उपयोग उन विकारों में किया जा सकता है जिनमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है, जैसे कि ल्यूपस या रुमेटीइड गठिया।


कीमोथेरेपी कैसे किया जाता हैं ? (What are the Procedure of Chemotherapy in Hindi)
कीमोथेरेपी से पहले, निदान के निम्नलिखित तरीकों का उपयोग करते है। जिसमे मरीज की शारीरिक परीक्षण करते है और मरीज का चिकित्सा का इतिहास के बारे में पूछते है। इसके अलावा नैदानिक इतिहास या बायोप्सी, FNAC करते है। 

कीमोथेरेपी का इलाज निम्न तरीको से किया जाता है। 

ओरल कीमोथेरेपी (Oral Chemotherapy) – इस प्रक्रिया में मरीज की नियमित जाँच के साथ घर पर निर्धारित दवाएँ दी जाती है। 
अंतःशिरा कीमोथेरेपी (Intravenous Chemotherapy) – इस प्रक्रिया में अस्पताल में मरीज के नस में एक ट्यूब के माध्यम से दवा दी जाती है।


कीमोथेरेपी के बाद देखभाल ? (How to Care After Chemotherapy in Hindi)
कीमोथेरेपी के बाद व्यक्ति को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। 
जैसे – आहार में प्रोटीन युक्त भोजन ले। 
मल्टीविटामिन्स का सेवन बढ़ाएं। 
लंबे समय तक धूप या यूवी किरणों के संपर्क में आने से बचें। (और पढ़े – सनबर्न की समस्या)
धीरे-धीरे शारीरिक गतिविधि बढ़ाएं। 
धूम्रपान से बचें। 


कीमोथेरेपी के बाद क्या जटिलताएं आ सकती हैं ? (What are the Risks of Chemotherapy in Hindi)
कीमोथेरेपी करवाने के बाद कुछ निम्न जटिलताएं आ सकती हैं। 
  • थकान महसूस होना। 
  • जी मिचलाना। 
  • उल्टी आना। 
  • मुंह के छाले। 
  • दस्त आना। (और पढ़े – छोटे बच्चों में दस्त की समस्या)
  • कब्ज़ होना। 
  • बाल झड़ना। 
  • संक्रमण होना। 

भारत में कीमोथेरेपी करवाने का खर्च कितना लगता हैं ? (What is Cost of Chemotherapy in India in Hindi)
भारत में कीमोथेरेपी कराने का कुल खर्च लगभग INR 75000 से INR 100000 तक लग सकता है। हालांकि भारत में बहुत से बड़े अस्पताल के डॉक्टर है जो कीमोथेरेपी करते है। लेकिन सभी अस्पतालों में कीमोथेरेपी का खर्च अलग-अलग है।

अगर आप विदेश से आ रहे है तो आपकी कीमोथेरेपी के इलाज के खर्च के अलावा होटल में रहने का खर्चा होगा, रहने का खर्चा होगा, लोकल ट्रेवल का खर्चा होगा। इसके अलावा सर्जरी के बाद मरीज को एक दिन अस्पताल और 15 दिन होटल में रिकवरी के लिए रखा जाता है, इसलिए सभी खर्चे मिलाकर INR 168,412 होते है जो एक साथ अस्पताल में लिये जाते है।



हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।

Post a Comment

0 Comments