Traffic Signs in Hindi | यातायात के नियम हिन्दी में

All New Traffic Signs in Hindi | यातायात के नियम हिन्दी में

traffic-sign-in-hindi
traffic signs in hindi-road signs in hindi
traffic signs in hindi-road signs in hindi

Tags-traffic signs in hindi,road signs in hindi,traffic symbols in hindi,traffic signs in hindi hd images,traffic signs in hindi pdf,traffic rules and symbols in hindi pdf,traffic signs in hindi language pdf,about traffic signals in hindi,traffic signal rules in hindi,traffic signal information in hindi


इस लेख(Traffic Signs in Hindi) में हम चर्चा कर रहे हैं भारत में सड़क सुरक्षा हेतु उपयोग होने वाले प्रमुख यातायात संकेतों (Traffic signs in India for Road Safety) के बारे में। इन ट्रैफिक नियमों (Traffic Rules in Hindi ) और ट्राफिक संकेतों (Traffic Signs and Signals ) की जानकारी सड़क पर चलने वाले हर वाहन चालक(driver) तथा आम आदमी के लिए बहुत जरूरी है।


मित्र ! जिस किसी भी चीज से बहुत सारे लोगों का हित और अहित जुड़ा हुआ हो , वहां पर चीजों को सुव्यवस्थित करने के लिए नियम बनाने’ आवश्यक हो जाते हैं। नियमों का पालन करने से बड़े बड़े कार्यों को भी आसानी से किया जा सकता है , तथा अकस्मात विपत्तियों के आने की संभावना भी कम हो जाती है।

आज इस आर्टिकल में हम सड़क पर यातायात से सम्बंधित प्रमुख संकेतो और कुछ नियमों (traffic signs in hindi)के बारे में बात करने वाले है। इन प्राथमिक नियमों की जानकारी वैसे तो हर व्यक्ति के लिए आवश्यक है, लेकिन यह विशेष रूप से ड्राइविंग लाइसेंस के इच्छुक व्यक्तियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।


सड़क सुरक्षा संकेत (Traffic Signs in Hindi for Raod Safety)
सबसे पहले यातायात संकेत की बात करते हैं।  सुरक्षा संकेतों (traffic signs) को मुख्यतः तीन भागों में बांटा जा सकता है, पहला अनिवार्य संकेत दूसरा चेतावनी देने वाले संकेत और तीसरा सूचनात्मक संकेत ।

अनिवार्य संकेत(Mandatory Sign)
अनिवार्य संकेत सड़क का उपयोग करने वाले वाहन चालकों और पैदल यात्रियों के लिए मानना आवश्यक होता है। यह संकेत यातायात के सुव्यवस्थित संचालन के लिए आवश्यक होते हैं। इन संकेतों की अनदेखी करने पर कानून के आधार पर व्यक्ति को दंडित भी किया जा सकता है। 

चेतावनी संकेत (Warning Signs)
चेतावनी संकेत के अंतर्गत ऐसे संकेत आते हैं जो रास्ते में आगे आने वाली कठिनाइयों ,खराब रास्ते के बारे में वाहन चालकों का ध्यान आकृष्ट करते हैं ताकि अभी से संभल कर गाड़ी चलाना शुरू कर दे , जिससे किसी भी हादसे की नौबत नहीं आए। 

सूचनात्मक संकेत (Informatory Signs)
सूचनात्मक संकेत के अंतर्गत रास्ते में आगे आने वाले प्रमुख स्थान, पेट्रोल पंप, अस्पताल, शौचालय, होटल तथा किसी गंतव्य तक जाने के लिए दाएं या बाएं कैसे मुड़ना है ?  इन सब चीजों के बारे में  बताया जाता है।


 
ट्रैफिक लाइट एवं उनका विवरण (Traffic Lights with Explanation in Hindi)
यातायात संकेत(traffic sign in hindi) जिन्हें हम ट्रैफिक लाइट के नाम से जानते हैं, के निर्देशों का पालन करना बहुत आवश्यक होता है ताकि किसी भी दुर्घटना या हादसे से बचा जा सके।  अमूमन जहां भी अधिक व्यस्त क्रॉस रोड है , वहां पर आपको ऐसे संकेतक मिल जाएंगे।  ट्रैफिक लाइट में मुख्य रूप से तीन रंग होते हैं  लाल , पीला और हरा …।
traffic signs in hindi-road signs in hindi



लाल रंग: लाल हमेशा एक प्रकार से खतरे की सूचना देता है।  इसलिए जब भी ट्रैफिक सिग्नल लाल रंग का होता है तो यह गाड़ी को रोकने का संकेत देता है। यानी अगर आप ड्राइव करते समय सिगनल लाल देखते हैं तो आपको अपनी गाड़ी को उस सिग्नल पर रोकनी चाहिए ।

पीला रंग : ट्रैफिक लाइट का पीला रंग यह दर्शाता है कि बस कुछ ही सेकंड में सिग्नल ग्रीन हो जाएगी और आपको गाड़ी आगे बढ़ाने के लिए तैयार हो जाना चाहिए।  

हरा रंग: हरे रंग का मतलब है आगे कोई रुकावट नहीं है।   आप निर्बाध रूप से अपनी गाड़ी को आगे बढ़ा सकते हैं अमूमन आपने  किसी भी ट्रैफिक सिग्नल पर यही तीन रंग देखे होंगे ।

traffic-sign-in-hindi

प्रमुख यातायात संकेत एवं उनके अर्थ (Traffic Signs with Meaning in Hindi)
नीचे प्रस्तुत है प्रमुख संकेत और उनके मतलब । अनिवार्य चिन्हों के बारे में हम सबसे पहले चर्चा कर रहें हैं। इन संकेतों के बारे में जानकारी नहीं होने से आप को कई प्रकार की अन्य समस्या सहित आर्थिक दंड भी उठाने पड़ सकतें हैं। सड़क सुरक्षा की दॄष्टि से यह सबसे महत्वपूर्ण हैं , अतः क्रमिक रूप से इन संकेतों का विवरण हम नीचे प्रस्तुत कर रहें हैं।

नो एंट्री-No Entry Sign
traffic signs in hindi-road signs in hindi




No Entry Sign का मतलब है कि जहां नो एंट्री बोर्ड लगा हुआ है उसके आगे गाड़ी ले जाना मना है, अथवा उस रास्ते से गाड़ी ले जाना मना है। अमूमन यदि कोई सड़क बन रही हो अथवा आगे कुछ हादसा हो गया हो उस स्थिति में नो एंट्री लगाई जाती है।

नो पार्किंग-No Parking
traffic signs in hindi-road signs in hindi


नो पार्किंग साइन बोर्ड अगर कहीं लगा हुआ है तो वह स्पष्ट रूप से बता रहा है कि उस जगह गाड़ी को पार्क करना मना है। हमें ऐसी जगह पर गाड़ी पार्क नहीं करनी चाहिए।

No Overtake -ओवरटेक ना करें
traffic signs in hindi-road signs in hindi


No Overtake साइन बोर्ड बताता है कि आगे रोड संकरा है, या ओवरटेक करने की जगह नहीं है अतः ओवरटेक मत करिए। वैसे भी सड़क सुरक्षित यात्रा के लिए है किसी प्रतियोगिता के लिए नहीं ! अतः हमें ओवरटेक करने से हमेशा बचना चाहिए।

No Right Turn




No Right Turn यह बताने के लिए कि आगे से दाएं मुड़ने की अनुमति नहीं है अतः गाड़ी उसी हिसाब से चलाएं।

No Left Turn


No Left Turn यह बताने के लिए कि आगे से बाएं मुड़ने की अनुमति नहीं है अतः गाड़ी उसी हिसाब से चलाएं।

No Motor Vehicle


इस चिन्ह के द्वारा यह स्पष्ट निर्देश दिया जाता है कि आगे इस रोड पर कोई भी गाड़ी नहीं ले जानी है। चाहे वो दोपहिया वाहन हो या चौपहिया वाहन हो ।

No Heavy Vehicle


इस चिन्ह के द्वारा यह निर्देशित किया जाता है कि आगे उस सड़क पर कोई भी भारी गाड़ी ले जाने की अनुमति नहीं है। ऐसा संभावित दुर्घटनाओं को टालने के लिए किया जाता है।

No Hand Cart


इस चिन्ह का मतलब है कि आगे कोई भी हाथ से खींची जाने वाली गाड़ी की अनुमति नहीं है ।

No Pedestrian


इस चिन्ह का मतलब है कि इस सड़क पर पैदल चलने की अनुमति नहीं है और वहां से पैदल चलना नुकसानदेह हो सकता है।



इस चिन्ह का उपयोग यह बताने के लिए किया जाता है की उस जगह पर खड़ा होना मना है, वहां खड़ा होना खतरनाक हो सकता है इसलिए अपने वाहन को आगे बढ़ाइए।

No Horn


हॉर्न बजाना यहाँ मना है इस चिन्ह का यही मतलब है। ये सारे चिन्ह बाध्यकारी हैं अतः इनका पालन आवश्यक हो जाता है। हमें बेवजह हॉर्न बजाने से परहेज करनी चाहिए यह ध्वनि प्रदुषण का एक प्रमुख कारण है।

No Entry Both Side


Speed Limit

 
यह चिन्ह यह बताता है की जिस सड़क से आप जा रहें हैं उस पर अधिकतम गतिसीमा क्या है ? अलग -अलग रोड पर गति की सीमा अलग-अलग होती है। यह इस बात पर बहुत हद तक निर्भर करता है कि वह सड़क किन इलाकों से होकर गुजरता है। शहर के अंदर से गुजरने वाली सड़कों पर स्पीड लिमिट 40 किलोमीटर या उससे कम होती है, तथा बाहर के सड़कों पर बनावट के हिसाब से अलग-अलग स्पीड लिमिट सेट की जाती है।

Cycle Prohibited


यह रोड sign इस चिन्ह का तात्पर्य यह है कि आप उस मार्ग में साईकिल नहीं चला सकते हैं।

Cart Prohibited


इस चिन्ह के द्वारा घोड़ा गाड़ी अथवा तांगा को उस सड़क से जाने से मना किया जाता है। सीधा सा मतलब है तांगा ,घोड़ागाड़ी अथवा बैलगाड़ी उस सड़क पर नहीं जा सकता है।

Height Limit


इस चिन्ह के द्वारा उस सड़क से आगे जाने वाली गाड़ियों की ऊचाइयों को निर्धारित दिया जाता है । height Limit board के द्वारा वाहन चालकों को सूचित किया जाता है कि अगर उनकी गाड़ी की ऊंचाई इस बोर्ड पर लिखे गए ऊंचाई के बराबर अथवा उस से कम है तभी वह उस सड़क से आगे जाए अन्यथा आगे उनके लिए परेशानी हो सकती है।

Length Limit
length restriction,


इस चिन्ह के द्वारा वाहन चालकों को सूचित किया जाता है कि अगर उनकी गाड़ी की लम्बाई इस बोर्ड पर लिखे गए लम्बाई के बराबर अथवा उस से कम हो, तभी वह उस सड़क से आगे जाए अन्यथा आगे उनके लिए परेशानी हो सकती है। इस चिन्ह का उपयोग तीव्र मोड़ पर मुड़ने में गाड़ियों को परेशानी नहीं हो इस उदेश्य से किया जाता है।

Give Way
giveway traffic sign,traffic sign,


इस चिन्ह के द्वारा वाहन चालकों को सूचित किया जाता है कि इस सड़क पर अपने से बड़ी गाड़ियों को आगे बढ़ने के लिए जगह दें तथा लेन में बायीं और रहते हुए चले।

One Way
traffic sign in hindi, one way sign


इस चिन्ह के द्वारा वाहन चालकों को सूचित किया जाता है कि आगे इस रोड पर वन वे है तथा गाड़ियां एक ही तरफ से जा सकती है।

Stop
stop sign for traffic,


इस चिन्ह के द्वारा रुकने के लिए निर्देश दिया जाता है ।

ऊपर जितने भी ट्राफिक संकेतों (traffic signs in hindi) के बारे में हमने बताया है । वह सभी अनिवार्य संकेत की श्रेणी में आते हैं । यानी इन संकेतों का पालन करना अनिवार्य है अन्यथा व्यक्ति पर कार्रवाई हो सकती है। इसके इतर दूसरे संकेत चेतावनी संकेत हैं जो आगे आने वाले संभावित स्थितियों के बारे में बताते हैं ।

चेतावनी संकेत (Warning Traffic Signs in Hindi)
यहां पर सभी संकेतों के बारे में चर्चा करेंगे तो पोस्ट बहुत बहुत बहुत लंबा हो जाएगा , इसलिए जो मुख्य चेतावनी संकेत है उसके बारे में संक्षिप्त चर्चा करेंगे ।

Animal Sign
animal sign


यह चिन्ह इस बात की ओर ईशारा करता है कि इस मार्ग पर जानवर अथवा उनके झुण्ड मिल सकतें हैं अतः वाहन को यथासंभव धीमी गति एवं सावधानी से ले जाएं। इससे वाहन चालक तथा पशु दोनों ही नुकसान से बच जायेंगे। यहाँ पशुओं में विभिन्न जगहों पर अलग अलग प्रतीकों का उपयोग किया जाता है ।

Loose Gravel
loose gravel sign


इस चिन्ह का उपयोग यह बताने के लिए किया जाता है कि ख़राब सड़क के कारण छोटे छोटे गिट्टी के टुकड़ें उड़ते हैं जो नुकसान कर सकतें हैं अन्य लोगों को और’ स्वयं को भी। इसलिए गाड़ी को धीमी गति से सावधानी पूर्वक चलाये।

Falling Rock
falling rock sign, traffic sign in hindi,


फॉलिंग रॉक चिन्ह ये बताते हैं कि आगे मौसम ख़राब होने पर भूस्खलन हो सकता है अतः संभल कर गाड़ी चलाएं ।

Unguarded level crossing ahead
traffic sign in hindi, railway crossing sign


इस चिन्ह से यह बताया जाता है कि आगे रेलवे क्रॉसिंग है लेकिन वहां फाटक नहीं है इसलिए वहां से रेलवे क्रॉसिंग को पार करते समय दाएं बाएं देख कर फिर सावधान होकर क्रॉस करें ।

Guarded Level Crossing Ahead
crossing sign, traffic sign hindi,traffic sign


इस चिन्ह के द्वारा यह बताया जाता है कि आगे फाटकयुक्त क्रासिंग है।

इस श्रेणी में बहुत सारे अन्य प्रकार के चिन्ह भी होतें हैं जिनकी एक सूची यहाँ हम आपके लिए प्रस्तुत कर रहें हैं ,अगर इनके विषय में कुछ जानना हो तो कमेंट बॉक्स में अपने प्रश्न लिखें ।

क्रम संख्या    प्रतीक चिन्ह का नाम(traffic signs in hindi) अर्थ मतलब 
1     साइकिल क्रासिंग इस चिह्न का मतलब है  कि आगे साइकिल क्रासिंग हैं ।

2 पैदल चलने की क्रासिंग इसे ज़ेबरा क्रासिंग आने के पहले बनाया जाता हैं. जिससे की वाहन चालक इसे देखकर वाहन की रफ्तार कम कर दें 
3 पशु इस चिन्ह का मतलब है कि आगे रास्ते में पशुओं के झुण्ड हो सकतें हैं । 
4 नैरो ब्रिज अगर आगे संकरा पुल है तो उसको दिखाने के लिए नैरो ब्रिज के चिन्ह का उपयोग किया जाता है । 
5 बायीं ओर मुड़ता तीर  यह चिन्ह बताता है कि आगे सड़क बायीं ओर मुड़ती है । 
6 दायीं ओर मुड़ता तीर  यह चिन्ह बताता है कि आगे सड़क दायीं  ओर मुड़ती है । 
7 स्पीड लिमिट इस चिन्ह का मतलब है की इस सड़क पर इसी गति सीमा के अंदर वाहन चलानी है। 
8 क्रॉस का चिन्ह यह चिन्ह बताता है की आगे चौराहा है आप उसी अनुसार संभल कर जाएं ।
9 स्कूल बैग लेकर जाता हुआ बच्चा यह निशान बताता है कि आगे स्कूल है और बच्चे होंगे अतः आराम से जाएं ।
10 गिरते हुए पहाड़ों के टुकड़ें  इस चिन्ह का उपयोग यह बताने के लिए किया जाता  है की आगे अगर मौसम ख़राब हुआ तो भूस्खलन हो सकता है चट्टानें गिर सकती है  ।
11 उचाईं पर चढ़ता गाड़ी  इस चिन्ह के द्वारा यह बताने की कोशिश की जाती है कि आगे बहुत तेज चढ़ाई है कृपया संभल कर आगे बढ़े।
12 चौकी अथवा बेड का निशान   यह निशान बताता है कि आगे विश्राम करने की जगह है। आवश्यकतानुसार आप उसे उपयोग कर सकते हैं। 
13 पैदल यात्री के ऊपर  लाल रंग की अधकटी वृत यह चिन्ह बताता है की अमुक जगह या उससे आगे पैदल चलना मना है ।
14 बाजा के ऊपर अधकटी  लाल वृत यह बताता है कि जिस क्षेत्र से गाड़ी भी गुजर रही है वहां हॉर्न बजाना मना है। 
15 ढलान से उतरती गाड़ी  इस चिन्ह के द्वारा यह बताने की कोशिश की जाती है कि आगे तेज ढलान है और गाड़ी को संभल कर ड्राइव करें ।
तीसरे प्रकार के संकेत जिसकी चर्चा हमने ऊपर की है सूचनात्मक संकेत हैं । जिसमें रास्ते में आगे पड़ने वाले प्राथमिक उपचार केंद्र, पेट्रोल पंप, रेस्टोरेंट आदि की जानकारी दी जाती है। इसे विस्तार से बताने की शायद जरूरत नहीं है इसे आप इमेज देख कर ही पहचान सकतें हैं। वैसे हमने इन सभी संकेतों को एकत्रित कर के एक ही फोटो(traffic sign image) में दे दिया है।

सूचनात्मक संकेत
traffic signs in hindi hd image, informatory sign,
Informatory traffc signs


यहां हमने चित्रों(traffic signs images) के नीचे संख्या लिखी है पहला चित्र (चित्र संख्या एक ) दिखाता है कि सार्वजनिक टेलीफोन सुविधा है आसपास, दूसरा बताता है कि बस स्टॉप है आगे तीसरा पेट्रोल पंप के बारे में बताता है चौथा चित्र बता रहा है कि वहां पार्किंग है। पांचवा चित्र इंगित कर रहा है कि रिफ्रेशमेंट(Tea-coffee) के लिए आप रुक सकतें हैं,नाश्ता पानी हम कर सकते हैं। छठा चिन्ह रेस्टोरेंट के बारे में बताता है। सातवां चित्र होटल का चित्र है जहाँ पर रुका जा सकता है। अंत में चित्र संख्या आठ यह बताता है कि प्राथमिक उपचार सेवा उपलब्ध है।

भारत में यातायात के नियम (Traffic Rules in india) 
हर व्यक्ति जो सड़क पर निकलता है ,अगर यातायात के नियमों का पालन करने की ठान ले, तो यह स्वयं उसके लिए तो एक सुरक्षा की बात होगी ही वह अपने इस व्यवहार से सड़क पर निकलने वाले दूसरे लोगों की यात्रा को भी सुरक्षित करने में अपना योगदान दे पाएगा। 

इससे जहां सड़कों पर यातायात व्यवस्थित होगा वहीं हर वाहन चालक की यात्रा  सरल और सुगम होगी । नीचे हम ऐसे ही कुछ आसान  नियमों का उल्लेख कर रहे हैं, जिसका अनुपालन करके कोई भी व्यक्ति सड़क पर सुरक्षित यात्रा में, सड़क सुरक्षा में अपना योगदान कर सकता है। 

गति सीमा(Speed Limit) :
अच्छी सड़क हो तो गाड़ी को तेज भगाने में सबको मजा आता है, लेकिन यह भी एक स्थापित सत्य है कि अधिकांश सड़क दुर्घटनाएं भी अनावश्यक और तेज गति से गाड़ी चलाने की वजह से ही होता है .ऐसे में हर वाहन चालक की यह जिम्मेदारी है कि वह वाहन को यातायात प्रशासन द्वारा बताये गए स्पीड लिमिट के अंदर ही चलाएं । 

Seat Belt & Helmet :
सीट बेल्ट और हेलमेट- दो पहिया वाहन चालकों को हेलमेट तथा चार पहिए चलाने वाले लोगों को सीट बेल्ट अवश्य बांधनी चाहिए। यह दोनों ही आपातकालीन स्थितियों में प्राण रक्षक साबित होती हैं । ऐसा देखा गया है कि इन सुरक्षा उपायों पर कठोरता से पालन करने से दुर्घटनाएं कम जानलेवा साबित होती हैं । 

यातायात संकेतक का पालन :
यातायात संकेतक (traffic signs in hindi) की चर्चा हमने ऊपर की है। उनके बारे में अच्छे से जान लेना बहुत आवश्यक होता है ताकि आप सड़क पर निकलते समय, चलते समय यातायात के नियमों का ठीक से पालन कर पाए। स्वयं को सुरक्षित रखते हुए दूसरों को भी सुरक्षित रखने में योगदान कर सकें। 

लेन अनुशासन :
सड़क पर चलते समय हमें हमेशा अपने लाइन में चलना चाहिए तथा बड़ी गाड़ियों को साइड देनी चाहिए। अपने लेन में चलने से आपके पीछे आ रही गाड़ियों को जहां चलने अथवा आगे बढ़ने में कोई दिक्कत नहीं होगी आपकी यात्रा भी सुरक्षित रहेगी।  जब भी आप किसी कारण से कहीं रुकना चाह रहे हों तो उस स्थिति में रियर मिरर में पीछे की ओर देख कर तथा धीरे धीरे आगे जाकर ही साइड ले और फिर रुकें ।

इंडिकेटर का उपयोग:
हर गाड़ी में आगे और पीछे इंडिकेटर्स लगे होते हैं। जब भी आप आगे से बाएं या दाएं मुड़ने वाले हों, उस स्थिति में इंडिकेटर का जरूर उपयोग करिए ताकि आपके पीछे आने वाले लोगों को आपके लिए रास्ता देने में आसानी हो। साइड लेने के लिए इंडिकेटर का उपयोग करना एक अच्छी और सड़क सुरक्षा के लिए अहम् बात है । 

मनमाने ढंग से कहीं भी गाड़ी पार्क करने से बचना चाहिए तथा गाड़ी को केवल आधिकारिक पार्किंग के स्थान पर ही लगाना चाहिए। सही स्थान  पर की गयी पार्किंग भी सुव्यवस्थित यातायात के लिए बहुत जरूरी है। इसके आलावा मनमाने ढंग से ओवरटेक करने से बचना चाहिए।  यदि किसी गाड़ी को जल्दीबाजी है तो उसको साइड भी जरूर देनी चाहिए । 

 
रास्ते पर चलते समय वाहन ध्यान पूर्वक चलाएं  तथा अपनी नजर सड़क के ऊपर ही बनाए रखें । जिससे आपके पीछे कौन सी गाड़ी आ रही है ?तथा आगे कौन सी गाड़ी इंडिकेटर से दाएं या बाएं मुड़ने का इशारा कर रही हैं।  इसकी जानकारी आपको समय से पहले मिल जाय और आप  समय रहते  उपयुक्त निर्णय ले पाए। 

सड़क किनारे मार्गदर्शिका बोर्ड पर लगे इस चिन्ह का मतलब होता है की उस सड़क पर गाड़ियों की आवाजाही की मनाही है । यानि सड़क के दोनों में से किसी भी छोड़ से आप नहीं जा सकते हैं ।

Road Safety से जुड़े तथ्य एवं आंकड़े
विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा 2018 में किये गए  एक अध्ययन के मुताबिक दुनिया के कुल 199 देशों में से भारत में  सड़क दुर्घटना में सबसे ज्यादा मौतें होतीं हैं।   इस सूची में चीन दूसरे तथा अमेरिका तीसरे स्थान पर था।  पूरे भारतवर्ष में जहां गाड़ियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, रोड इंफ्रास्ट्रक्चर में उस स्तर पर सुधार नहीं हो पा रहा है।  केवल वर्ष 2019 में कुल 3 मिलियन नई गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन भारत में हुआ है। भारत में कुल सड़कों की लंबाई लगभग 5 मिलीयन किलोमीटर है जो 90% यात्रा के लिए जिम्मेदार है तथा इन्हीं सड़कों से कुल माल ढुलाई का 65% माल की ढुलाई भी होती  है । 

कुछ अन्य संस्थानों द्वारा किए गए सर्वेक्षण से यह सामने आया है कि भारत में हर  मिनट एक दुर्घटना होती है, तथा दुर्घटना की वजह से हर 4 मिनट में एक व्यक्ति की मौत हो जाती है। यह आंकड़े बहुत भयावह सच्चाई को सामने रख रहीं हैं जहाँ ये आंकड़े लाखों में पहुंच जाते हैं।

इन रिपोर्ट में यह भी बहुत स्पष्ट रूप से कहा गया है कि मुख्य रूप से इन दुर्घटनाओं का कारण शराब पीकर वाहन चलाना , मौजूद कानूनों को सही और सख्ती से लागु नहीं करना, सीट बेल्ट और हेलमेट नहीं पहनना तथा बड़ी आसानी से बिना कोई टेस्ट दिए ड्राइविंग लाइसेंस हासिल कर लेना भी है।

Post a Comment

0 Comments